aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
Amardeep Singh's Photo'

अमरदीप सिंह

1983 | पटियाला, भारत

अमरदीप सिंह

ग़ज़ल 26

अशआर 3

वो साफ़-गो है मगर बात का हुनर सीखे

बदन हसीं है तो क्या बे-लिबास आएगा

बे-फ़िक्र रहो यारो मैं आज भी हूँ बर्बाद

दिन फिर गए हैं मेरे अफ़्वाह उड़ी होगी

दिमाग़-ओ-दिल की थकान वाला

कड़ा सफ़र है गुमान वाला

 

क़ितआ 1

 

"पटियाला" के और शायर

 

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए